Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा : “क्या अब स्व प्रतीक्षा को न्याय मिलेगा” , सार्वजनिक स्थलों पर आरोपियों के नामों की सूचना चस्पा, न्यायालय में हो हाजिर

अमित मंकोडी

0 219

सार्वजनिक स्थलों पर आरोपियों के नामों की सूचना चस्पा, न्यायालय में हो हाजिर

आष्टा. साल 2020 के दिसंबर महीने में तहसील मुख्यालय के निजी पुष्प अस्पताल में हुई प्रतिक्षा शर्मा की मौत के मामले में अब न्यायालय सख्त हो गया है. आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने पर न्यायालयीन आदेश पर पुलिस ने सार्वजनिक स्थलों पर आरोपियों के नामों की सूचना चस्पा कर उन्हें न्यायालय में उपस्थित होने की चेतावनी दी है.


गौरतलब है कि सुभाष नगर निवासी 26 वर्षीय प्रतिक्षा शर्मा पत्नी गिरीश शर्मा को प्रसव के लिए परिजन द्वारा सेमनरी रोड स्थित प्रायवेट हॉस्पिटल पुष्प कल्याण में भर्ती कराया गया था. प्रसव के दौरान महिला की मौत हो गई थी. परिजनों द्वारा अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही को इस मौत का कारण बताया था. मृतिका के परिजनों के आक्रोश और मांग के बाद प्रतिक्षा का पोस्र्टमार्टम भोपाल में कराया गया था. अगले दिन मृतिक प्रतिक्षा के परिजन और शहरवासी अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज कराने के लिए थाने पहुंचे थे.


13 दिसंबर को सड़क पर उतरे थे लोग
मृतिका प्रतिक्षा शर्मा को न्याय दिलाने की मांग को लेकर 13 दिसंबर को आष्टा के शहरवासी सड़क पर उतर आए थे. रैली के रूप में निकली महिला व युवतियों के हाथ में बैनर-तख्तियां थी, जिस पर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के श्लोगन लिखे थे. इसी दिन कलेक्टर ने भी जांच समिति का गठन कर मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दिए थे. जांच दल द्वारा एक पखवाड़े के बाद रिपोर्ट सौंपी, जिसमें अनुसार अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही सामने आई थी. इसके बाद आष्टा थाने में पुष्प हॉस्पिटल के डॉ. हरमन, सिस्टर लॉरेन और डॉ. सबिया अंसारी के खिलाफ बीस दिन बाद एफआई दर्ज की गई थी, लेकिन इनकी गिरफ्तारी नहीं हो सकी थी. सिस्टम इस लचर कार्रवाई से दुखी प्रतिक्षा के परिजनों ने 15 मार्च से कन्नौद रोड स्थित तहसील कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन का आवेदन दिया गया था.
आरोपियों के घरों के सामने नोटिस चस्पा
प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट मनोज कुमार भाटी की अदालत ने अभियुक्त व्यक्ति की हाजिरी की अपेक्षा करने पर उद्घोषणा जारी की है. इसमें बताया कि सिस्टर लारेज थांयिल पिता टीजे जोसेफ निवासी करिक्कत्तुर केरेला आ. निवासी पुष्प कल्याण अस्पताल आष्टा ने भारतीय दण्ड संहिता की धारा 304 भादवि का दण्डनीय अपराध किया है और उस पर जारी किए गए गिरफ्तारी वारंट को यह लिखकर लौटा दिया गया है कि उक्त सिस्टर लारेन थांयिल पिता टीजे जोसेफ मिल नहीं रहा है और मुझे समाधानप्रद रूप में यह दर्शित कर दिया गया है कि उक्त सिस्टर लारेल थांयिकल पिता टीजे जोसेफ फरार हो गया है या उक्त वारंट की तामील से बचने के लिए अपने आपको छिपा रहा है. इसलिए इसके द्वारा उद्घोषणा की जाती है कि सिस्टर लारेज थांयिकल पिता टीजे जोसेफ से अपेक्षा की जाती है कि वह इस न्यायालय के समक्ष उत्तरे देने के लिए थाना आष्टा में तारीख 15 अप्रैल शाम पांच बजे या इसके पूर्व हाजिर हो.

गिरफ्तारी के लिए हम लोग काफी लंबे समय से प्रयासरत है. तीनों आरोपी अब तक फरार ही है. न्यायालयीन आदेश के बाद आरोपियों के घरों के बाहर व सार्वजनिक स्थलों पर नोटिस चस्पा कर चेतावनी दी गई है. 15 अप्रैल से पहले या शाम पांच बजे तक थाने में उपस्थित हों.
रामबाबू राठौर, पुलिस जांच अधिकारी

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!