Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : सोयाबीन बोने वाले कृषकों के लिए उपयोगी सलाह

0 8

सोयाबीन बोने वाले कृषकों के लिए उपयोगी सलाह

    सीहोर 01 जुलाई,2019

       जिले में सोयाबीन की खेती करने वाले क्षेत्रों में मानसून का आगमन होने पर कृषि विभाग द्वारा किसानों को लगभग 4 इंच वर्षा होने के बाद ही सोयाबीन की बुवाई करने की सलाह दी गई है। कृषि विभाग द्वारा किसानों से बौवनी करते समय आवश्यक बातों का विशेष ध्यान रखने के लिए भी कहा गया है। किसानों को सलाह दी गई कि मानसून की अनिश्चितता के कारण उत्पादन में स्थिरता के लिए संभव होने पर सोयाबीन की बौवनी रिज-फरौ (कूड मेंड़ पद्धति) से ही करें जिससे सुखे/अतिवर्षा के दौरान उत्पादन प्रभावित न हो। सोयावीन के अनुशंसित पोषक तत्वों (नत्रजन, स्फुर, पोटाश,सल्फर) की पूर्ति के लिए उर्वरकों का प्रयोग संतुलित मात्रा में बौवनी के समय करें। कृषि विभाग द्वारा सलाह दी गई है कि सोयावीन की बौवनी हेतु 45 से.मी. कतारों की दूरी पर तथा न्यूनतम 70प्रतिशत अंकुरण के आधार पर उपयुक्त बीज दर (55 से 75 कि.ग्रा/हैं.) का उपयोग करें। बौवनी के समय बीज उपचार अवश्य करें।किसानों को अनुशंसित फफूंदनाशक थायरम+कार्बोक्सीन (3 ग्रा/कि.ग्रा.बीज) अथवा थायरम+कार्बेन्डाजिम (2:1) 3 ग्रा./किग्रा बीज) अथवा जैविक फफूंदनाशक ट्रायकोडर्मा 10 ग्रा./कि.ग्रा. बीज उपचारित करने की सलाह दी गई है। 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!