Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत की उपस्थिति में “किसान खेत पाठशाला” हेतु मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण हुआ प्रारंभ

0 0

संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत की उपस्थिति में “किसान खेत पाठशाला” हेतु मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण हुआ प्रारंभ

27 अक्टूबर,2020

     प्रदेश में सीहोर जिले से “किसान खेत पाठशाला” अभियान को प्रारंभ किया जा रहा है। जिस संबंध में चयनित मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण कार्यक्रम मंगलवार को संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत की उपस्थिति में जिला पंचायत सभाकक्ष में शुरू हुआ। इस अवसर पर भोपाल कलेक्टर श्री अविनाश लावानिया, विदिशा कलेक्टर श्री पंकज जैन, ज़िला पंचायत सीइओ भोपाल श्री विकास मिश्रा भी उपस्थित थे।

श्री कियावत ने बताया कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य कृषको की आय को दोगुना करना है। उपलब्ध संसाधनों से ही किस प्रकार बेहतर फसल उत्पादन हो सके यह बात ग्रामीण स्तर तक पहुंचानी है। किसानों की लागत में कमी लाना, बीज-खाद-कीटनाशक प्रबंधन आदि की जानकारी, सिंचाई के लिए उपकरणों की जानकारी, फसल कटाई से पूर्व व बाद का प्रबंधन, मृदा परीक्षण की उपयोगिता, पोषण संवेदी कृषि के प्रति जागरूकता, पशुपालन के लिए कृषको को प्रेरित कर दुग्ध उत्पादन क्षमता में वृद्धि, पशु आहार प्रबंधन, पशुओं का उपचार आदि की जानकारी किसानों को प्रदान करते हुए उन्हें यह भी समझना है कि किस प्रकार वे अपने खेत की मेढ़ पर फलदार वृक्ष ऊगा सकते हैं, खाली पड़ी ज़मीन पर फल या बेल-नुमा सब्ज़ी के पौधे लगा सकते हैं। कृषकों के पारंपरिक ज्ञान को विज्ञान व तकनीक से मज़बूती प्रदान करके उनकी आय में वृद्धि के स्त्रोत उत्पन्न करना है।

संभागायुक्त ने कलेक्टर, पंचायत विभाग, कृषि विभाग, उद्यानिकी विभाग आदि को निर्देशित किया कि सभी आपस मे समन्वय कर इस अभियान को सफल बनायें। ग्राम पंचायत स्तर पर परंपरागत व्यवस्थाओं के साथ साथ तकनीक व प्रबंधन के ज़रिए कृषकों की आय बढ़ाने का प्रयास करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि किसानों से नरवाई प्रबंधन के बारे में बात अवश्य की जाए। ज़िला प्रशासन ज़िले में आने वाले हार्वेस्टरों कि जांच कर बिना रिपर वाले हार्वेस्टर को ज़िले में न आने दिया जाए। नरवाई जलाने से मिट्टी की गुणवत्ता नष्ट होती जाती है और मिट्टी में रहने वाले कृषक मित्र जीव जैसे केंचुआ भी मर जाता है। अतः कृषको को नरवाई न जलाने के लिए प्रेरित करें साथ ही इस संबंध में नियामों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध कारवाही करने के निर्देश कलेक्टर को दिए।श्री कियावत ने कहा कि हमारा किसानों से सीधा संवाद होना चाहिए ताकि आपदा की स्थिति में भी हम उनके साथ मिलकर समस्या से लड़ सकें। sms या व्हाट्सएप के माध्यम से समय समय पर किसानों को सही जानकारी भी भेजी जाएगी। इसके अलावा उन्होंने ग्राम पंचायत स्तर पर प्रदर्शनी लगाने के भी निर्देश दिए। प्रदर्शनी में कृषि संबंधी सभी आयामो पर चर्चा, पौधे रोपने की बारीकियां व शासन द्वारा कृषकों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी आदि दी जाएगी। उन्होंने सभी मास्टर ट्रेनर को निर्देशित किया कि ऐसे प्रयास किए जाएं कि खेत पाठशालाओं के माध्यम से फसलों की उत्पादन, उत्पादकता एवं कृषकों की आय में वृद्धि के लिए मील का पत्थर साबित हो, इस भावना को ध्यान में रखते हुए कृषकों के बीच सामन्‍यजस स्थापित कर पाठशालाएं आयोजित की जाएं। बैठक में कलेक्टर श्री अजय गुप्ता, ज़िला पंचायत सीइओ श्री हर्ष सिंह, कृषि महाविद्यालय के डीन, उपसंचालक कृषि श्री एसएस राजपूत, कृषि विज्ञान केन्द्र सेवनिया के वैज्ञानिक डॉ जेके कन्नोजिया, डॉ विमलेश कुमार सहित अन्य संबंधित अधिकारी, वैज्ञानिक व मास्टर ट्रेनर्स उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!