Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर: मोबाइल शॉप में हुई लाखो की चोरी,दो आरक्षकों पर गिरी गाज,हुए निलंबित।

0 5

लोकसभा चुनाव के चलते मुस्तैदी का दावा करते पुलिस प्रशासन के तमाम दावों को धता बताते हुए दु:साहसी चोरों ने मछली बाजार क्षेत्र में एक मोबाइल शाप पर धावा बोला. शटर उचकाकर दुकान में दाखिल हुए चोरों ने लगभग 18 लाख रुपए कीमत के मोबाइल बटोरे रफूचक्कर हो गए. साथ ही 84 हजार रुपए की नगद राशि भी ले गए. हैरत की बात यह है कि चोरों ने जिस स्थान पर चोरी की करतूत को अंजाम दिया है, वहां से छावनी पुलिस चौकी महज चंद कदमों की दूरी पर है. फिलहाल पुलिस ने अज्ञात चोरों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है. मामले में शाम को ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है.


शहर की छावनी चौकी से चंद कदमों की दूरी पर अब्बास हुसैन आत्मज अलमदार की न्यू फिजा मोबाइल शॉप है. उनके पास कई महंगी मोबाइल कंपनियों की एजेंसी भी है. बताया जाता है कि बीती रात लगभग नौ बजे वह दुकान बंद कर अपने घर चले गए थे. तभी देर रात चोरों ने उनकी दुकान के शटर उचकाया और अंदर दाखिल होकर दुकान में रखे तमाम मोबाइल ले गए. मंगलवार की सुबह लगभग छह बजे वहां से गुजरने वाले लोगों ने जब दुकान का शटर उचका हुआ देखा तो अलमदार हुसैन को सूचित किया. श्री हुसैन मौके पर पहुंचे तो पाया कि चोर उनकी दुकान में रखे मोबाइल बटोरकर ले गए थे.


तमाम क्लोज सर्किट कैमरे थे बंद


पीडि़त दुकानदार अब्बास ने बताया कि उनकी दुकान में क्लोज सर्किट कैमरे तो लगे हैं, लेकिन पिछले एक माह से तकनीकी खराबी के चलते वह रात को कैमरे बंद करके घर जाते हैं. उन्होंने बताया कि उनके पास सैमसंग, वीवो और एमआई जैसे कीमती मोबाइल की एजेंसी भी है. उनका कहना है कि चोर लगभग 18 लाख रुपए के मोबाइल, 84 हजार रुपए नगद और लैपटाप ले जाने में कामयाब हुए हैं. इनमें सैमसंग के लगभग सात लाख रुपए कीमत के मोबाइल, वीवो कंपनी के एक लाख रुपए के मोबाइल और एमआई कंपनी के पांच लाख रुपए के मोबाइल के अलावा अन्य कंपनियों के मोबाइल बटोरकर ले गए हैं. हालांकि पुलिस ने मामले में सात लाख रुपए की चोरी की रिपोर्ट दर्ज की है. पीडि़त दुकानदार अब्बास का कहना है कि वह एक- एक मोबाइल का ईएमआई नंबर और बिल प्रस्तुत कर सकता है, जिसके आधार पर पता लगाया जा सके कि चोरी गए मोबाइल की कीमत लगभग 18 लाख के आसपास है.


पुलिस का कहना था नौ के बाद आएंगे


बताया जाता है कि चोरी की वारदात का पता मंगलवार की सुबह छह बजे लगने के बाद जब पीडि़त दुकानदार थाना कोतवाली पहुंचे तो वहां से कहा गया कि नौ बजे के बाद तमाम स्टाफ थाने पहुंचेगा, उसके बाद वह मौका मुआयना करने आएंगे. नौ बजे के बाद थाना कोतवाली प्रभारी मनोज मिश्रा एवं डॉग स्क्वाड मौके पर पहुंचा और मुआयना किया. इसके अलावा एसपी एसएस चौहान एवं अन्य पुलिस अधिकारी भी मौका मुआयना करने पहुंचे थे. फिंगर एक्सपर्ट टीम ने भी दुकान के अंदर चोरों द्वारा छोड़े गए निशान जुटाने का प्रयास किया, लेकिन समाचार लिखे जाने तक पुलिस अज्ञात चोरों का सुराग नहीं लगा सकी थी. लोकसभा चुनाव के चलते जहां पुलिस रात्रिकालीन गश्त व्यवस्था चौकस रखने के दावे कर रही है, वहीं छावनी चौकी से चंद कदमों की दूरी पर हुई वारदात पुलिस के दावों की कलई खोलती नजर आती है. बताया जाता है कि इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस कप्तान ने क्षेत्र में बीटा ड्यूटी करने वाले दो पुलिस कर्मियों राजेन्द्र वर्मा और सुरेश परमार को निलंबित करने की कार्रवाई की है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!