Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : महिला स्वास्थ्य शिविरों में जांची जा रही महिलाओं की सेहत,ग्राम स्तर पर 127,विकासखण्डों में 22 तथा जिला स्तर पर 10 शिविर लगेंगे

0 1

महिला स्वास्थ्य शिविरों में जांची जा रही महिलाओं की सेहत

ग्राम स्तर पर 127,विकासखण्डों में 22 तथा जिला स्तर पर 10 शिविर लगेंगे

सीहोर 05 मार्च,2019

     जिले में ग्रामविकासखण्ड तथा जिला स्तर पर महिला स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन कर महिलाओं की सेहत जांची जा रही है। इस दौरान दवाईयों का वितरण भी  किया जा रहा है। आयोजित इन शिविरों में किशोरी बालिकाओं की रक्तअप्लता तथा माहवारी से संबंधित समस्या की पहचान एवं उपचार की जा रही है वहीं गर्भवती महिलाओं में खून की कमीरक्तचापडायबिटिज, अन्य हाईरिस्क की  पहचान एवं उपचार तथा इलेक्टीव सीजर हेतु चिन्हांकन किया जा रहा है। अन्य आयुवर्ग की महिलाओं मे उच्च रक्तचापडायबिटिज, स्तन कैंसर, सरवाईकल कैंसर, ओरल कैंसर, निःसंतानता स्त्रीरोग संबंधी अन्य समस्याओं की पहचान कर उनका उपचार किया जा रहा है। प्रजनन आयु वर्ग की महिलाओं में गृहभेट के दौरान एनीमिया से बचाव, प्रबंधन, हेतु  कृमिनाशक की एग गोली तथा साप्ताहिक आयरन की गोली का वितरण भी ग्राम स्तरीय शिविरों में किया जा रहा है।

           मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी  डॉ.प्रभाकर तिवारी के अनुसार श्यामपुर ब्लॉक में ग्राम स्तर के 31, नसरूल्लागंज में 24, इछावर 17, बुदनी 23 तथा आष्टा में 32 ग्राम स्तरीय महिला स्वास्थ्य शिविर आयोजित किए जाएंगे। वहीं विकासखण्ड स्तरीय शिविरों में श्यामपुर , आष्टा, नसरूल्लागंज, इछावर में 5-5 तथा बुदनी विकासखण्ड में 2 महिला स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन किया जाएगा। जिला स्तर पर 10 महिला स्वास्थ्य शिविर आयोजित कर ब्लॉक स्तर से रेफर महिलाओं का विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा उपचार किया जाएगा। जिला स्तर पर रौशनी क्लीनिक में भी महिलाओं को उचित एवं संपूर्ण उपचार शासकीय खर्च पर दिया जाएगा।

     ग्राम स्तर के शिविरों में वजन, लंबाई, बीपी, हिमोग्लोबिन, पेशाब की निःशुल्क जांच कर चिकित्सकों के पास भेजी जा रही है। विकासखण्ड स्तरीय शिविरों में पूर्व प्रसव में ऑपरेशन, संतना उत्पत्ति के दौरान ज्यादा खून का बहना, 18 वर्ष से कम और 35 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं में हृदय रोग, मधुमेह, मलेरिया या पीलिया, टेढ़ा उल्टा बच्चा शरीर पर सूजन, बच्चे का ना घूमना इत्यादि कई गंभीर परिस्थितियों की सूक्ष्म जांच की जा जाएगी। संतानहीनता, कैंसर, अत्यधिक रक्तस्त्राव, उच्च रक्तचाप, 8 ग्राम से कम हिमोग्लोबिन वाली महिलाओं को इंजेक्शन आयरन सुक्रोज/ब्लड ट्रांसफ्यूजन के प्रबंधन हेतु ग्राम स्तरीय शिविरों से विकासखण्ड स्तर पर रेफर किया जाएगा। शिविर के दौरान एनीमिक महिलाओं को फेरस सल्फेट की गोली हिमोग्लोबिन स्तर के आधार पर प्रदान की जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!