Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : मनीषा हम शर्मिंदा  है तेरे कातिल जिंदा  है    राष्ट्रीय बौद्ध महासभा ने राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को दिया ज्ञापन

0 12
मनीषा हम शर्मिंदा  है तेरे कातिल जिंदा  है

राष्ट्रीय बौद्ध महासभा ने राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को दिया ज्ञापन

बहुजनों पर जारी है लगातार अत्याचार
बलात्कार एवं हत्याओं की घटनाओं से
भय में जी रहा है बहुजन समाज- भैरवे

सीहोर। हाथरस उत्तर प्रदेश में देश की बेटी मनीषा के साथ हुए बलात्कार एवं निर्मम हत्या को लेकर जिले  भर के बहुजन समाज में कड़ा आक्रोश बना हुआ है।
आरोपियों को फांसी की सजा दिए जाने और  देश  भर के  बहुजन समाज के नागरिकों की सुरक्षा की मांग  को  लेकर बुधवार को राष्ट्रीय बौद्ध महासभा के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं के द्वारा हाथों में मृतिका मनीषा की तस्वीर और नारे लिखे बेनर पोस्टरों के साथ जिला संयोजक आकाश भैरवे के नेतृत्व में राष्ट्रपति के नाम डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन दिया गया।

प्रदर्शन में शामिल कार्यकर्ताओं को पवन सूर्यवंशी ने संबोधित किया।  उन्होने कहा  की देश में बहुजनों पर लगातार बढ़ रही बलात्कार एवं हत्याओं की घटनाओं के कारण पूरे देश का बहुजन समाज भय की जिंदगी जी रहा है । आये दिन बहुजन समाज की बहन बेटियों के साथ बलात्कार की घटना एवं हत्याएं की जा रही हैं ।
देश में कानून व्यवस्था नहीं है ऐसा प्रतीत हो रहा है आरोपियों के हौसले बुलंद हैं एक विशेष वर्ग के लोग पूरे देश में आतंक फैलाए हुए जब दिल चाहे बहन बेटियों का बलात्कार कर हत्या कर देते हैं । इसी निरंकुशता के कारण हाथरस में बहुजन समाज की बेटी मनीषा के साथ कुछ दिन पूर्व चार दरिंदों ने सामूहिक बलात्कार किया एवं जुबान काट दी और रीढ़ की हड्डी तोड़ दी इस निर्मम हत्या कर दी।

राष्ट्रीय बौद्ध महासभा के जिला संयोजक आकाश  भैरवे  ने कहा की  आरोपियों की सुनवाई के लिए अलग फास्ट ट्रेक कोर्ट बनाई जाए और 15 दिन में फैसला कर आरोपियों को फांसी की सजा दी जाए । अगर ऐसा नहीं किया गया तो बहुजन समाज का देश की सरकार एवं कानून पर से भरोसा उठ जाएगा । देश में कानून व्यवस्था बनाए रखने और वंचित वर्ग को न्याय दिलाने के लिए आरोपियों को सख्त से सख्त सजा देकर देश की बेटियों की इज्जत आबरू बचाने एवं मनीषा को न्याय दिलाने का राष्ट्रीय बौद्ध महासभा ने संकल्प लिया है। प्रदर्शन में मूख्य  रूप  से  कमलेश बौद्ध, शैलेंद्र , अल्पेश, तरुण, शुभम कचरिया, रोहित ,हेमंत भारती, विवेक डागर, पवन दरोठिया सहित बढ़ी संख्या में  कार्यकर्ता शामिल रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!