Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर न्यूज़ दर्पण जनसंपर्क एक्सप्रेस।

0 1

कोरोना संक्रमित पाए गए व्यक्तियों के निवास स्थल को

कलेक्टर ने किया कंटेंटमेंट क्षेत्र घोषित 

सीहोर 05 सितंबर,2020

            जिले में कोरोना संक्रमित पाए गए व्यक्तियों के निवास स्थल को कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धारा 71 के तहत कंटेनमेंट एरिया घोषित किया गया है। कलेक्टर श्री गुप्ता द्वारा जारी आदेश अनुसार कोरोना पॉजिटिव पाए गए व्यक्तियों के निवास इछावर तहसील के ग्राम आमलारामजीपुरा को प्रहलाद सिंह के खेत को चारों और से बंद किया गया। ग्राम ढाबला माता को भेरुसिंह के मकान से रामप्रसाद के मकान तक, ग्राम दिवड़िया को लखन वर्मा के मकान से कैलाश सुतार के मकान तक, एक अन्य स्थान को दिवड़िया के जाने वाले स्थान पर मांगीलाल के मकान से दिलीप सोनी के मकान तक, ग्राम धाईखेड़ा को लखन चौकीदार के मकान से अनिल खाती के मकान तक, ग्राम फांगिया को ललता बाई के मकान से देवीसिंह के खेत तक, ग्राम बिजिशनगर को चंपालाल के मकान से मानसिंह के मकान तक, वहीं एक अन्य स्थान हरीश के मकान से विमलेश के मकान तक, तीसरे स्थान को मस्जिद जाने वाले पर मनोहर के मकान से स्कूल तक, ग्राम भांउखेड़ी को अमलाहा रोड़ पर रघुनंदन के मकान से मोहन के मकान तक, ग्राम झालपीपली को आंगनवाड़ी रास्ते से छगनलाल के खेत ड, सीहोर के वार्ड नंबर 19 नेहरु कॉलोनी हरिजन मोहल्ला को पूर्व में दिनेश भैरवे का मकान, पश्चिम में अनुप के मकान से बिजली के खंबे तक तक कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किया गया है। कंटेनमेंट एरिया के अन्तर्गत पूर्ण रूप से आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। कंटेनमेंट एरिया के समस्त निवासियों का होम कोरोनटाईन में रहना उचित होगा। कंटेनमेंट एरिया के अंदर भी आवागमन पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।


अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छ हवा एवं नीला आकाश पर दिया गया प्रशिक्षण

7 सिंतबर को मनाया जाएगा दिवस 

सीहोर 05 सितंबर,2020

      राष्ट्रीय जलवायु एवं मानव स्वास्थ्य कार्यकम के अंतर्गत प्रथम अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छ हवा एवं नीला आकाश दिवस का आयोजन 7 सितंबर को किया जाएगा। इस संबंध में जिला नोडल अधिकारी राष्ट्रीय जलवायु एवं मानव स्वास्थ्य कार्यक्रम डॉ.टीआर उईके द्वारा स्वच्छ हवा दिवस के अवसर पर प्रशिक्षण दिया गया। जिले के समस्त विकासखण्ड में जूम एप मीटिंग द्वारा समस्त बीईई, बीसीएम, आंगनवाडी सुपरवाईजर्स महिला एवं बाल विकास विभाग, एएनएम, आंगनवाडी कार्यक्रर्ता तथा आशा को प्रदूषण नियंत्रण के संबंध में जानकारी दी गई। 7 सितंबर 2020 को प्रथम अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छ हवा एवं नीला आकाष दिवस का आयोजन किया जाएगा।

     मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.सुधीर कुमार डेहरिया ने जानकारी दी कि उक्त प्रशिक्षण में बताया गया कि हवा को प्रदूषण से कैसे मुक्त रखें जिससे प्रदूषित हवा से होने वाली बीमारियो से बचा जा सके।  घर के बाहर धुंआ धूल को रोकना, मोटर साईकिल वाहनों से निकलने वाला धुआं, फैक्ट्रियों से निकलने वाला प्रदूषित धुंआ, कचरा जलाने पर होने वाला धुआं एवं अन्य जलने वाली वस्तु और घर के अंदर चुल्हे में लकडी जलाने पर होने वाले धुआं के नियंत्रण के लिए प्रशिक्षित किया गया। राज्य स्तर से यह प्रशिक्षण नोडल अधिकारी जिला आरबीएसके डॉ.एमके चंदेल, जिला समन्वयक आरबीएसके श्रीमती श्रद्धा गुप्ता, डीसीएम द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त किया गया

जेल में किया गया मलेरिया परीक्षण

सीहोर 05 सितंबर,2020

            जिला जेल में शनिवार को जिला मलेरिया अधिकारी श्रीमती क्षमा बर्वे द्वारा बंदियों की रैपिड डायग्नोस्टिक किट से जांच की गई साथ ही लार्वीसाइड का छिड़काव किया गया। कैदियों को एवं जेल प्रशासन के कर्मचारियों को मच्छर जनित बीमारियों के नियंत्रण हेतु उचित उपायों क जानकारी प्रदान की गई। इस अवसर पर 285 कैदियों को मलेरिया, डेंगू था चिकनगुनिया से बचाव के लिए जानकारी प्रदान की गई तथा जागरूक किया गया। शिविर लगाकर  स्वास्य परीक्षण किया गया जिसमें 11 महिला कैदी भी शामिल थी। 04 महिला कैदियों तथा 5 पुरूष कैदियों के बुखार की जांच भी की गई। स्वास्थ्य परीक्षण कार्यक्रम में जिला जेल के अधिकारी/कर्मचारी तथा मलेरिया विभाग के कर्मचारी सहायक मलेरिया अधिकारी श्रीमती सिलोमित वसूनिया, मलेरिया निरीक्षक श्री संतोष नायर, अरविंद कुमार एवं जेल फार्मासिस्ट स्वास्थ्य परीक्षण एवं स्वास्थ्य जांच शिविर के दौरान उपस्थित थे।

सरस्वती शिशु विद्या मंदिर स्कूल मे आनलाईन साक्षरता

शिविर व निबंध प्रतियोगिता का आयोजन 

सीहोर 05 सितंबर,2020

            सर्वोच्च न्यायालय के अंतर्गत राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एंव उच्च न्यायालय के अंतर्गत राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार व जिला एवं सत्र न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्गदशन में शनिवार को सरस्वती शिशु विद्या मंदिर के 10 वीं, 11 वी व 12 वीं के छात्र-छात्राओं के मध्य शिक्षक दिवस के अवसर पर डाक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के सम्बंध में आनलाईन निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें श्री एस.के. नागौत्रा अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सीहोर, जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री अनीसुद्दीन अब्बासी एंव प्राचार्य सरस्वती शिशु विद्या मंदिर श्री ठाकुर आनलाईन मोड द्वारा सम्मिलित हुए।

      निबंध प्रतियोगिता पश्चात् शिक्षक दिवस के अवसर पर आनलाईन विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें 10 वीं, 11 वीं व 12वीं के छात्र-छात्राएं आनलाईन माध्यम से सम्मिलित रहें। श्री एस.के. नागोत्रा द्वारा भारत के द्वितीय राष्ट्रपति, प्रख्यात षिक्षाविद और भारतरत्न से सम्मानित डाक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन पर प्रकाष डाला और कोरोना कोविड-19 प्रोटोकाल के बारे में आनलाईन माध्यम से उपस्थित छात्र-छात्राओं को जानकारी से अवगत कराया गया। डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के सम्बंध में आनलाईन निबंध प्रतियोगिता में कु. सिमरन यादव 12 वीं प्रथम स्थान, प्राची तिवारी 11वीं द्वितीय स्थान व पलक परमार 10वीं तृतीय स्थान पर रहें। ऑनलाईन शिविर में प्राचार्य सरस्वती शिशु विद्या मंदिर में उक्त कार्यक्रम का संचालन एंव अधिकारीगणों का आभार व्यक्त कर षिविर का समापन किया गया।

मिलर्स से प्राप्त गुणवत्ता विहीन चावल प्रदाय का मामला ईओडब्ल्यू को

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिए निर्देशजांच के बाद होंगे दोषी दंडित किसी भी स्तर पर नहीं सहेंगे भ्रष्टाचार 

सीहोर 05 सितंबर,2020

            मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि उपभोक्ताओं को गुणवत्ता विहीन चावल प्रदाय करने का मामला गंभीर है। इसकी ईओडब्ल्यू से जांच करवाई जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस संबंध में उच्च स्तरीय बैठक में स्पष्ट निर्देश दिए हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि फरवरी माह में बालाघाट में मिलर्स से प्राप्त गुणवत्ता विहीन चावल को सार्वजनिक वितरण प्रणाली में बांटने के मामले में पूर्व सरकार द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह गंभीर मामला है। इसमें विभिन्न स्तर पर सांठ-गांठ की भी आशंका है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस मामले की जांच में जो तथ्य उजागर होंगे, दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। बालाघाट और मंडला जिलों के निरीक्षण के बाद गोदामों से चावल का प्रदाय और परिवहन बंद किया गया है। मिलिंग नीति के अनुसार गुणवत्ताविहीन चावल के स्थान पर मानक गुणवत्ता का चावल प्राप्त किया जाएगा। भ्रष्टाचार किसी भी स्तर पर सहन नहीं किया जाएगा।

            मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में कहा कि खाद्यान की गुणवत्ता और राशन घोटाले के मामले की विस्तृत जांच की जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पूरे प्रदेश में खाद्यान की गुणवत्ता सुनिश्चित की जाए। पूर्व में कहीं भी हुई गड़बड़ी की जांच होगी। किसी भी कीमत पर खाद्यान की गुणवत्ता से समझौता नहीं किया जाएगा। इसमें गड़बड़ करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। इस तरह की गड़बड़ियों को पूरी तरह समाप्त करना बहुत जरूरी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि खाद्यान की गुणवत्ता को प्रभावित करने वाले और काला बाजारी करने वाले लोगों के दुष्चक्र को तोड़ना आवश्यक है।

            जारी है सेम्पल लेने की कार्रवाई– मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा बुधवार को अधिकारियों को निर्देश दिए गए थे कि गुणवत्ताविहीन चावल प्रदाय के मामले में सख्त कदम उठाए जाएं। इस तारतम्य में बालाघाट जिले के 3 गोदामों का निरीक्षण किया गया। इसमें 3136 मेट्रिक टन तथा मंडला जिले में 1658 मेट्रिक टन चावल निर्धारित मानकों का नहीं पाया गया। दोनों जिलों के निरीक्षण के बाद गोदामों से चावल का प्रदाय और परिवहन बंद किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा सख्त कार्रवाई के निर्देश के पालन में प्रदेश में सेम्पल लेने की कार्रवाई जारी है। कुल 51 संयुक्त दल गठित कर भंडारित चावल के एक हजार से अधिक सेम्पल लिए जा चुके ।

इनमें से 284 की जाँच प्रारंभ की गई है। भारतीय खाद्य निगम के स्थानीय कार्यालयों से मिली जानकारी के अनुसार 72 सेम्पल वितरण योग्य हैं, जबकि 57 सेम्पल मानकों के अनुरूप नहीं है। प्रदेश के अन्य जिलों से चावल की शेष मात्रा में से सेम्पल लेने का कार्य भी इस सप्ताह कर लिया जाएगा। दोषी गुणवत्ता नियंत्रकों की सेवाएं समाप्त करने की कार्रवाई भी की गई है। निम्न गुणवत्ता का चावल प्रदाय करने वाले मिलर्स के गोदाम एवं मिलों की जांच भी की जा रही है। संबंधित मिलर्स के खिलाफ एफ.आई.आर. भी दर्ज की गई है।

            15 गुणवत्ता नियंत्रकों को मिला था जिम्मानहीं बख्शेंगे लापरवाह स्टाफ को– प्रदेश में खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में नवम्बर 2019 से जनवरी 2020 तक 26.21 लाख मेट्रिक टन धान का उपार्जन किया गया। माह अगस्त 2020 तक मिलिंग के लिए 17.40 लाख मेट्रिक टन धान मिलर्स को प्रदाय किया गया। इसमें से मिलर्स ने 16.51 लाख मेट्रिक टन धान की कस्टम मिलिंग कर 11.06 लाख मेट्रिक टन चावल कार्पोरेशन को प्रदाय किया गया है। मिलर्स से कस्टम मिलिंग के बाद प्राप्त चावल के गुणवत्ता निरीक्षण के लिए 15 गुणवत्ता नियंत्रक संलग्न किए गए थे। इन्होंने 1318 स्टेकों का निरीक्षण किया था। जिसमें से 111 स्टेक निर्धारित गुणवत्ता के नहीं पाए गए। कस्टम मिलिंग नीति के अनुसार मिलर द्वारा कस्टम मिलिंग के बाद निम्न गुणवत्ता के चावल की मात्रा मिलर को वापस कर मानक गुणवत्ता का चावल प्राप्त किया जाता है। बैठक में गुणवत्ता नियंत्रकों सहित समस्त जिम्मेदार स्टाफ द्वारा कुशलतापूर्वक दायित्व निर्वहन के निर्देश दिए गए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो अधिकारी-कर्मचारी कर्तव्य निभाने में लापरवाही करेंगे उन्हें नहीं बख्शा जाएगा। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण श्री फैज अहमद किदवई उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!