Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : थाना जावर पुलिस द्धारा अंधे कत्ल का खुलासा, दामाद ही निकला अपनी सास का हत्यारा

0 6

थाना जावर पुलिस द्धारा अंधे कत्ल का खुलासा
दामाद ही निकला अपनी सास का हत्यारा
दिनांक 30/9/20 को निरीक्षक मदन इवने को सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम दरखेडा मे एक महिला अपने घर पर कमरे के अन्दर फाँसी लगा ली है कि सुचना पर तत्काल रवाना होकर ग्राम दरखेडा पहुँचा तो महिला कि मृत्यु संदिग्ध परिस्थिती मे होना पाया गया फिर तत्काल एफएसएल सीहोर व वरिष्ट अधिकारियो को घटना से अवगत कराया वरिष्ट अधिकारी व एफएसएल टीम घटना स्थल पर पहुँचे घटना का बारिकी से निरीक्षण किया गया बारिकी से निरीक्षण करने पर पाया गया की अज्ञात व्यक्ति द्वारा महिला के दोनो हाथो को हल्के पीले रंग के वायर से बाधकर गले मे सफेद रंग की रस्सी लपेटकर हत्या की गई है जिस पर से घटना स्थल पर जिरो पर देहाती मर्ग इन्टिमेशन लेकर जाँच प्रारम्भ की गई दौराने जाँच मृतिका कोशल्या बाई पत्नि ज्ञान सिह जाति लोहार उम्र 45-50 साल निवासी दरखेडा की लडकी रानी उर्फ राखी उर्फ वर्षा व लडके राहुल, रवि से पूछताछ की गई जिन्होने बताया की किसी अज्ञात व्यक्ति ने हमारी माँ कोशल्या बाई

हत्या कर रकम / जेवरात चोरी कर ले गया है ।

पुलिस अधीक्षक श्री शशीन्द्र सिह चौहान द्वारा अज्ञात आरोपी की धर पकड हेतुअतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सीहोर श्री समीर यादव एवं एस.डी.ओ.पी. आष्टा श्री मोहन सारवान के मार्गदर्शन में तत्काल तीन टीम गठित कर अज्ञात आरोपी की तलाश हेतु थाना प्रभारी जावर निरीक्षक मदन इवने को दिशा निर्देश दिये थे ।

उक्त टीम द्वारा मुखबिर कि सूचना पर घेराबंदी कर एक व्यक्ती को पकडा जिसका नाम पता पूछा तो अपना नाम ईश्वर पिता सिद्दुलाल उम्र 24साल जाति लोहार निवासी पलसावद थाना सुंदरशी जिला शाजापुर का होना बताया जिससे बारिकी से पुछताछ करने पर बताया कि दिनांक 29/09/2020 कि रात्री करीबन 09.00 बजे मे अपनी मोटर साईकिल MP42MQ7647 को ग्राम दरखेडा मे स्कूल के पीछे जंगल मे झाडियो मे छिपाकर पैदल पैदल मेरे ससुराल गया मैने दरवाजा खटखटाया तो मेरी सास कौशल्या ने दरवाजा खोला मैने पूछा कि मेरी पत्नि राखी कहा गई है मै उसको लेने आया हूँ मेरी सास बोली कि तुम सही ढंग से काम धंधा नही करते हो और मेरी लडकी से घर का पूरा काम करवाते हो जिससे उसकी तबियत खराब हो गई है मै उसको अभी नही भेजूगी इसी बात पर से ईश्वर ने अपनी सास कौशल्याबाई को शादी मे दिए गए सोने के जेवरात वापस मागे और कहा मुझे मेरी रकम वापस कर दो उसे मै अभी वापस लेकर जाउगा मेरी सास ने धक्का देकर बोली कि तु यहा से निकल जा तो मैने अपनी सास को धक्का देकर बिस्तर पेटी से गहने जेवरात निकालने लगा तो मेरी सास मुझसे झूम गई जिससे मुझे गर्दन हाथ व सीने पर नोच लिया तो मैने गुस्से मे आकर कौशल्याबाई का सिर पकडकर दीवाल पर जोर से मारा जिससे वह बेहोश सी होकर कमरे के फर्स पर गिर गई इसके बाद मैने बिजली के वायर से अपनी सास के दोनो हाथो को कसकर बाध दिए थे और बाथरूम से कपडे बाधने वाली रस्सी खोलकर सास के गले मे चार बार लपेट कर जोर से खीचकर गठान लगा दी थोडी देर बाद सास की मौत हो गई फिर मैने बिस्तर पेटी मे रखे छोटे काले रंग के बैग मे रखे जेवरात निकाले जिसमे पत्नि राखी उर्फ वर्षा के एक जोड सोने के कान की झुमकी एक चादी करधोना, एक जोडी चादी की पायजेब, आठ नग चादी की मीना मिली। फिर मैने सास के कान मे पहने चादी के टाप्स निकाले और ऊपर रजाई से ढक दिया और वही पास मे पडा लावा कम्पनी का कीपैड मोबाईल काले रंग का उठाकर जेब मे रख दिया। मैने जाते जाते अपनी सास कौशल्याबाई के मुह मे थोडा सा सल्फास की गोली का पाउडर डाल दिया था और बचा पाउडर सास के सिर के नीचे रख दिया ताकि किसी का ध्यान मेरी तरफ ना जाए फिर मै धीरे से दरवाजा खोलकर बाहर देखा कोई नही दिखने पर धीरे से बाहर निकलकर दरवाजे का कुन्दा लगाकर गाव बाहर जाकर जंगल मे छिपाकर रखी मोटर साईकिल को निकाला जल्दबाजी मे मेरी चप्पले वही पर छूट गई थी व अपने घर पलसावद के लिए मोटर साईकिल से जाते समय रास्ते मे काले रंग का झोला फेक दिया था और जेवरात प्लास्टिक की थैली मे रख लिया था शुजालपुर रोड पर मैने सास के मोबाईल से सिम निकालकर फेक दी थी और घर चला गया था घर जाकर जेवरात मैने मेरी अलमारी मे और मोबाईल फोन मैने मेरे बिस्तर के नीचे छिपाकर रखे है जो आरोपी की निशादेही पर बरामद किए गए । एवं मोटर साईकिल जप्त की गई। आरोपी का पुलिस रिमाण्ड लेकर शेष सामग्री मोबाईल सिम कार्ड आईन्दा जप्त किया जाता है।
उक्त कार्यवाही में श्री मदन इवने थाना प्रभारी जावर , उनि नवल सिह बघेल ,उनि कृष्णा मण्डलोई , उनि उपेन्द्र पारशर, सउनि मंगल प्रसाद यादव, आर 621 अर्जुन,आर 633 मृत्युजय तिवारी, आर 721 होविन्द्र, आर 55 अनिल,आर 323 महेन्द्र , आर 640 शिवम,आर 560 राहुल, आर 464 विकाश, आर 650 देवेन्द्र , मआर 330 निकिता , सै 168 राहुल, सै.461 लाखन,सै 362 ओमप्रकाश,सै.179 कैलाशका सराहनीय योगदान रहा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!