Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : डिजीलेप कार्यक्रम का प्रभावी क्रियान्वयन एवं मानीटरिंग होगी “अब पढ़ाई नहीं रूकेगी”

0 0

डिजीलेप कार्यक्रम का प्रभावी क्रियान्वयन एवं मानीटरिंग

  1. होगी “अब पढ़ाई नहीं रूकेगी”

सीहोर 19 जून,2020

     कोविड-19 के संकटकाल में शिक्षा विभाग ने घर बैठे ही प्रत्येक बच्चे की पढ़ाई के लिये डिजीलेप कार्यक्रम तैयार किया है। प्रत्येक बच्चे को डिजीलेप से जोड़ने के लिये शिक्षा विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग और खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के सहयोग से कार्यक्रम का क्रियान्वयन और मानीटरिंग और अधिक प्रभावी ढंग से की जाएगी। उल्लेखनीय है कि वर्तमान कोविड-19 संकट के परिप्रेक्ष्य में शैक्षणिक गतिविधियों के अवरूद्ध होने से विद्यार्थियों का लर्निंग लॉस ( learning loss ) होना संभावित है। ऐसी स्थिति में विद्यार्थियों के लर्निंग लॉस ( learning loss ) को कम करने की दृष्टि से विभाग द्वारा शिक्षा संवर्द्धन कार्यक्रम ( digital learning enhancement Programme-DigiLEP ) तैयार किया गया है। जिसके अंतर्गत व्हाट्सएप समूहों ( whatsapp Groups ) के माध्यम से गुणवत्तायुक्त शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। राज्य स्तर से समय-समय पर क्विज, असाइनमेंट, अतिरिक्त शिक्षण सामग्री  और प्रत्येक  रविवार को फिल्प बुक उपलब्ध कराई जा रही है, जिनसे  शिक्षकों को अपने विद्यार्थियों के साथ फोन और व्हाट्सएप, दोनों माध्यम से जुड़ने में मदद् मिल रही है। श्री लोकेश कुमार जाटव, आयुक्त राज्य शिक्षा केन्द्र, श्री अविनाश लवानिया, आयुक्त खाद्य एवं आपूर्ति विभाग, श्री बी.एस. जामोद, आयुक्त पंचायत एवं ग्रामीण विकास एवं श्री चंद्रशेखर, आयुक्त आदिवासी विकास ने सभी कलेक्टर्स, मुख्य कार्यपालन अधिकारियों एवं जिला आपूर्ति अधिकारियों को इस संबंध में निर्देश दिए हैं।

            शिक्षा विभाग   जिला शिक्षा अधिकारी डिजीलेप कार्यक्रम का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार करवाएँगे। कार्यक्रम से संबंधित पोस्टर, बैनर एवं अन्य प्रचार-प्रसार सामग्री को जिले की समस्त उचित मूल्य दुकान, ग्राम पंचायत भवनों, सामुदायिक भवनों, आंगनवाड़ी केन्द्रों तथा अन्य सार्वजनिक स्थलों एवं नगरीय निकायों में प्रदर्शित कराएंगे।

            पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग–  गाँव में प्रत्येक बच्चे को डिजीलेप से जोड़ने की जिम्मेदारी पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग को सौंपी गई है। प्रत्येक ग्राम पंचायत भवन में उपलब्ध एलईडी टीवी का उपयोग प्राथमिक कक्षाओं में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिये किया जाएगा। इसमें सोशल डिस्टेंसिंग मानकों का अनिवार्य रूप से पालन किया जाएगा। स्व-सहायता समूहों की महिलाओं के माध्यम से कार्यक्रम का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाएगा। स्थानीय शिक्षक रेडियो स्कूल कार्यक्रम के प्रसारण की जानकारी ग्राम पंचायतों के माध्यम से लाउड स्पीकर से मुनादी करवाकर प्रत्येक बच्चे तक पहुँचाएंगे।

            खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग   खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग का अमला ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्र में स्थिति उचित मूल्य की दुकानों पर पोस्टर, बैनर लगवाएगा। स्व-सहायता समूहों के माध्यम से संचालित उचित मूल्य की दुकानों के माध्यम से व्यापाक प्रचार-प्रसार कराया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!