Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : छत्रपति शिवाजी महाराज की 390वीं जयंती पर हुआ आयोजन।

0 38

आष्टा। भारत के वीर सपूतों में प्रमुख नाम छत्रपति शिवाजी महाराज का है, क्योंकि वही ऐसे पुरूष थे जिन्होंने एक संपूर्ण स्वराज की मांग करते हुए भारत के लोगों को संगठित व एकत्रित किया था। छत्रपति शिवाजी न केवल मराठाओं के गौरव थे, बल्कि वे भारतीय गणराज्य के महानायक भी थे। उन्होंने मात्र 15 साल की उम्र में ही दुर्ग पर विजय प्राप्त की थी। छत्रपति शिवाजी महाराज का कार्यकाल 1630 से 1680 तक रहा और उन्होंने एक शक्तिशाली राज्य की स्थापना कर लोगों में आत्मगौरव लौटाया था। सुभाषचंद्र बोस जैसे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी ने आजादी के आंदोलन के समय युवाओं से आव्हान करते हुए कहा था कि छत्रपति शिवाजी महाराज के आदर्शो को हमें सामने रखकर चलना चाहिए, तभी हम अपने देश की सेवा कर सकेंगे।
इस आशय के विचार छत्रपति शिवाजी महाराज की 390वीं जयंती पर वक्ताओं ने एक-दूसरे से साझा किए। कार्यक्रम के आयोजक बब्बनराव महाडिक, प्रतिक महाडिक ने छत्रपति शिवाजी महाराज के चित्र के समक्ष अतिथि पूर्व पार्षद नरेन्द्र कुशवाह, संजय सुराना, डॉ. ओपी मालवीय से दीप प्रज्जवलन कराकर कार्यक्रम की विधिवत शुरूआत की। कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों को तिलक लगाकर व रक्षासूत्र बांधकर सम्मानित किया। इस अवसर पर अतिथियों ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित किया। कार्यक्रम में निखिल कुशवाह, आकाश मेवाड़ा, नवरत्न गजानंद महिला मंडल अध्यक्ष अनिता महाडिक, नीता महाडिक, आर्य समाज की महिला अध्यक्ष कल्पना आर्य, कुशवाह समाज की जिलाध्यक्ष गीता कुशवाह, के साथ ही कृष्णा कुशवाह, माया कुशवाह, पूजा कुशवाह, हेमलता कुशवाह, पुष्पा कुशवाह, सुनीता मालवीय, सुनीता चौपड़ा, कृष्णा जायसवाल, उषा कुशवाह, गीता कुशवाह, रानी यादव, महिला कुशवाह, ज्योति मेवाड़ा, विमला सोलंकी, शीला कुशवाह, विमला पाल, वेजयंती सिंघानिय, गोदावरी धाड़ीवाल आदि मौजूद थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!