- Advertisement -
सीहोर

सीहोर : चिकित्सा शिक्षा सहित अन्य पाठ्यक्रम हिन्दी में प्रारंभ करने के प्रयास फिर से होंगे- मुख्यमंत्री श्री चौहान

अमित मंकोडी

चिकित्सा शिक्षा सहित अन्य पाठ्यक्रम हिन्दी में प्रारंभ

करने के प्रयास फिर से होंगे- मुख्यमंत्री श्री चौहान

सीहोर 19 सितंबर,2020

                मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हिन्दी विश्वविद्यालय द्वारा चिकित्सा शिक्षा पाठ्यक्रम हिन्दी में प्रारंभ करने और अभियांत्रिकी की हिन्दी में प्रकाशित पुस्तकों को मान्यता के संबंध में प्रयास किए जाएंगे। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया से पूर्व में भी हिन्दी में चिकित्सा शिक्षा पाठ्यक्रम की अनुमति प्राप्त करने के प्रयास किए गए थे। यह प्रयास पुनरू करते हुए ग्रामीण क्षेत्र से हिन्दी माध्यम से स्कूली शिक्षा प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार चिकित्सा और अभियांत्रिकी सहित अन्य तकनीकी विषयों की शिक्षा भी हिंदी में उपलब्ध करवाने का प्रयास करेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विद्यार्थी मातृभाषा में ग्रहण की गई ज्ञान को गहराई से आत्मसात कर पाते हैं। मध्यप्रदेश में हिंदी विश्वविद्यालय प्रारंभ करने का कार्य कोई कर्मकांड नहीं था। यह हिंदी की प्रतिष्ठा को बढ़ाने के लिए वैश्विक स्तर पर पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल जी द्वारा किए गए प्रयासों की श्रृंखला में एक नया कदम था। मध्य प्रदेश सरकार ने हिंदी विश्वविद्यालय प्रारंभ करने का निर्णय सुविचारित सोच के साथ लिया था जो शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के प्रतिभावान और क्षमतावान हिंदी माध्यम में शिक्षित, दीक्षित विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के स्तर पर हिंदी में पढ़ाई का अवसर उपलब्ध करवाने वाला कदम था।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हिंदी का ज्ञान किसी हीनता का परिचायक नहीं। हिंदी सम्मान की भाषा है। हम अंग्रेजी के गुलाम कतई नहीं हो सकते। ब्रिटेन और अमेरिका जैसे विकसित राष्ट्रों में भी कोई व्यक्ति हिंदी में बात कर सम्मानित महसूस करता है और उसे सुनने वाले भी सम्मान के भाव से देखते हैं। यह धारणा गलत है कि अंग्रेजी के बिना प्रगति नहीं हो सकती। आज ऐसी मानसिकता बना दी गई है कि अंग्रेजी में बोलना प्रतिष्ठा की बात समझी जाती है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हिन्दी भारत माता के माथे की बिंदी है। निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल। हिन्दी दुनिया की तीसरी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ में श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने हिन्दी का उपयोग किया। अटल जी की हिन्दी मंत्रमुग्ध कर देती है। उनके भाषण हो अथवा काव्य पाठ, दोनों ही अद्भुत हैं।

 मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि  हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भी हिंदी की प्रतिष्ठा को दुनिया में स्थापित करने का कार्य किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज हिंदी विश्वविद्यालय में अधिकांश ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थी प्रवेश ले रहे हैं। इसलिए हम यह कह सकते हैं कि हिंदी विश्वविद्यालय अपनी स्थापना के उद्देश्य में सफल है। विद्यार्थियों में प्रतिभा की कमी नहीं होती। अंग्रेजी की वजह से भाषा का बोझ उनके लिए ज्ञान अर्जित करने में बाधक है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने हिन्दी के विकृत हो रहे स्वरूप का उल्लेख करते हुए कुलपति श्री रामदेव भारद्वाज से अपेक्षा की कि वे हिन्दी को विकृत होने से बचाने के संबंध में शोध कार्य प्रारंभ करवाएं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हिन्दी में पाठकों की संख्या भी बढ़ रही है। हिन्दी की पत्रिकाएं और अखबार देश-विदेश में रूचि के साथ पढ़े जाते हैं। हिंदी का प्रयोग निरंतर बढ़ रहा है। यह भी जरूरी है कि हम सभी मिलकर  हिंदी की स्वीकार्यता बढ़ाएं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हिन्दी की प्रतिष्ठा को अधिक से अधिक बढ़ाने का दायित्व हिंदी विश्वविद्यालय का है और मुझे विश्वास है कि इसे निभाते हुए विश्वविद्यालय निरंतर प्रगति पथ पर आगे बढ़ेगा।

कार्यक्रम को मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर श्री रामेश्वर शर्मा ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज हिंदी दिवस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान की कल्पना से जन्मे इस विश्वविद्यालय के अपने भवन का शुभारंभ हर्ष का अवसर है प्रारंभ में हिंदी विश्वविद्यालय के कुलपति श्री राम देव भारद्वाज ने स्वागत भाषण में बताया कि  मध्यप्रदेश शासन के अधिनियम 2011 द्वारा स्थापित अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय भवन का शुभारंभ आज मध्यप्रदेश ही नहीं सम्पूर्ण भारत के लिए गौरव का क्षण है। यह विश्वविद्यालय नई ऊंचाइयों की ओर बढ़ रहा है। विश्वविद्यालय में अकादमिक उन्नयन के प्रयास किए जा रहे हैं। लगभग 60 पाठ्यक्रम अभी संचालित हैं। स्वरोजगार से जुड़े पाठ्यक्रम भी शामिल किए जा रहे हैं। इसमें स्टार्टअप सहित जीविका के अन्य अवसर उपलब्ध कराने वाले पाठ्यक्रम भी शामिल हैं। करीब 15 हजार  विद्यार्थियों को 6 माह और 1 वर्ष के पाठ्यक्रमों से जोड़ने का लक्ष्य है।  वर्तमान में कोलार रोड स्थित भवन में संचालित विश्वविद्यालय नए भवन और परिसर से विद्यार्थियों के लिए अधिक सुविधाजनक हो जाएगा। उन्होंने विश्वविद्यालय की प्रगति के लिए शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव और प्रमुख सचिव श्री अनुपम राजन भी उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close