Take a fresh look at your lifestyle.

सीहोर : गेंहूं फसल में जड़ माहू कीट का प्रकोप के संबंध में किसानों को सलाह

0 0

गेंहूं फसल में जड़ माहू कीट का प्रकोप के संबंध में किसानों को सलाह

सीहोर 17 नवंबर ,2020

कृषि विज्ञान केन्द्र सेवनिया वैज्ञानिकों द्वारा किसानों को सलाह दी गई है कि गत वर्षों की भाँति इस वर्ष भी गेंहूं फसल में जड़ माहू कीट का प्रकोप दिखाई दे रहा है। गेंहूं फसल के खेतों में स्थान-स्थान पर पौधे पीले होकर सूख रहे हैं। समय पर निदान न किये जाने पर इस कीट द्वारा गेंहूं फसल में बड़ी क्षति की सम्भावना रहती है। जड़ माहू कीट गेंहूं के पौधे के जड़ भाग में चिपका हुआ रहता है जो निरन्तर रस चूसकर पौधे को कमजोर व सुखा देता है। प्रभावित खेतों में पौधे को उखाड़कर ध्यान से देखने पर बारीक-बारीक हल्के पीले, भूरे व काले रंग के कीट चिपके हुए दिखाई देते हैं।

मौसम में उच्च आर्द्रता व उच्च तापमान होने पर यह कीट अत्यधिक तेजी से फैलता है। अनुकूल परिस्थितियाँ होने पर यह कीट सम्पूर्ण फसल को नष्ट करने की क्षमता रखता है। कृषि विज्ञान केन्द्र सेवनिया द्वारा अनुसंशा की गयी है कि जिन क्षेत्रों में अभी तक गेंहूं फसल की बुवाई नहीं की गयी है, वहाँ पर बुवाई से पूर्व इमिडाक्लोरोप्रिड 48 एफ. एस. की 01 मिली. दवा अथवा थायोमेथाक्जाम 30 एफ. एस. दवा की 1.5 मिली मात्रा प्रति किग्रा. की दर से बीज उपचार अवष्य करें तथा जिन क्षेत्रों में बुवाई कार्य पूर्ण किया जा चुका है व कीट प्रकोप के लक्षण प्रारम्भिक अवस्था में हैं वहाँ किसान भाई इमिडाक्लोरोप्रिड़ 17.8 एस. एल. की 80 -100 मिली. मात्रा अथवा थायोमेथाक्जाम 25 डब्लू. पी. की 80 ग्राम मात्रा अथवा एसिटामाप्रिड 20 एस. पी. दवा की 60 ग्राम मात्रा प्रति एकड, 150 -200 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!