Take a fresh look at your lifestyle.

देवास/खातेगांव: शनिश्चरी अमावस्या पर उमड़ा भक्तों का सैलाब ,चलता रहा पूजन अर्चन का दौर ।

0 0

शनिचरी अमावस्या पर उमड़ा भक्तों का सैलाब ,चलता रहा पूजन अर्चन का दौर

नर्मदा में लगाई डुबकी ,किया दान


अनिल उपाध्याय
खातेगांव /देवास
शनिचरी अमावस्या पर्व पर शनिवार को हजारों नर्मदा भक्तों ने आस्था एवं श्रद्धा के साथ नर्मदा नदी के पवित्र जल में स्नान किया घाटों पर बैठे गरीबों एवं दिव्यांगों को वस्त्र एवं सत्तू का दान कर पर्व स्नान का पुण्य लाभ लिया !इसके बाद भक्तों ने भगवान गणेश सिद्धनाथ एवं ऋण मुक्तेश्वर महादेव का जलाभिषेक कर सुख-समृद्धि और आरोग्य की मंगल कामना की आज सत्तू अमावस्या होने के कारण पर्व का और भी अत्यधिक महत्व बढ़ गया है !श्रद्धालुओं ने मां नर्मदा के तट पर सत्तू का भोग लगाकर सुख समृद्धि और आरोग्य की मंगल कामना की,
शनिचरी अमावस्या पर संपूर्ण क्षेत्र में शनि मंदिरों में शनिदेव की विशेष रूप से पूजा-अर्चना कर तेलाअभिषेक व अनुष्ठान किया गया! वहीं नेमावर स्थित नर्मदा तट पहुंचकर श्रद्धालुओं ने मां नर्मदा में स्नान कर शनिदेव एवं महाकालेश्वर मंदिर में पूजा अर्चना की, शनिवार के दिन अमावस्या के आने से पर्व का ओर भी
महात्व बढ़ गया है ! जिसके चलते शनिचरी अमावस्या पर लोगो की संख्या अन्य अमावस्या पर्व से अधिक देखी गई !कारण स्पष्ट है कि जिन लोगों की राशियों पर साढ़ेसाती औरैया सनी की दशा होती है! आज के दिन नर्मदा स्नान करने से व शनिदेव को तेल तेल का अभिषेक करने से साढ़ेसाती शनि का ढैय्या शनि की दशा में शांति मिलती है! दूरदराज एवं आसपास के क्षेत्रों से हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं एंव भक्तों का सैलाब मां नर्मदा के तट पर पहुचे जहा मां नर्मदा के पविञ जल मे स्नान ध्यान कर शनिदेव की पूजा अर्चना तेल अभिषेक कर तेल तिल्ली व काला कपड़ा चडा कर शनिचरी अमावस्या पर पूजन पाठ ध्यान कर शनिदेव की कोप दृष्टि से अपने आप को बचाने की प्रार्थना की
शनिचरी अमावस्या का पर्व होने से इस बार शुक्रवार शाम से ही श्रद्धालुओं एवं भक्तों का नेमावर की नर्मदा तट पर आने का सिलसिला शुरू हो गया था जो शनिवार सुबह तक जारी
श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए प्रशासन ने भी चाक-चौबंद व्यवस्था की थी!

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!