Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा/सिद्दीकगंज : पेपर लीक मामले में प्राइवेट स्कूल संचालक पर कलेक्टर के आदेश के बाद एफ.आई.आर. दर्ज।

0 2

12 वीं कक्षा का पेपर लीक, विकास खंड शिक्षा अधिकारी ने सिद्धिकगंज थाने में कार्रवाई हेतु लिखित में दिया था आवेदन ,पेपर प्रारंभ होने के35 मिनट पहले पेपर हुआ था लीक, 10 दिन बाद पुलिस ने किया प्रकरण दर्ज, कलेक्टर ने पत्रकारों की बैठक में प्रकरण दर्ज होने की दी थी जानकारी
आष्टा। आष्टा क्षेत्र में शनिवार 23 मार्च को 12 वीं कक्षा के गणित विषय का पेपर सोशल मीडिया पर समय से 35 मिनट पहले ही वायरल हो जाने से शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा । शिक्षा विभाग की तमाम कोशिशों के बाद भी पेपर समय पर बटने से पहले ही 8:25 पर सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। इस मामले में 24 मार्च रविवार को जिला शिक्षा अधिकारी एससी त्रिपाठी जहां आष्टा पहुंचे ।वहीं दूसरी ओर विकास खंड शिक्षा अधिकारी बीपी पठारिया ने बोर्ड परीक्षा का पेपर परीक्षा प्रारंभ होने के 35 मिनट पहले वायरल होने पर कार्रवाई करने हेतु सिद्धिकगंज पुलिस को लिखित में शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने आवेदन के 10 दिन पश्चात कलेक्टर के निर्देश पर विकास खंड शिक्षा अधिकारी श्री पठारिया की शिकायत पर रूपेश कुमार जैन संचालक अशासकीय कैंब्रिज उच्च माध्यमिक विद्यालय खाचरोद के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है।

वहीं दूसरी ओर खामखेड़ा जत्रा परीक्षा केंद्र के केंद्र अध्यक्ष बाबूलाल मालवीय को भी इस मामले में पुलिस ने पूछताछ हेतु तलब किया है।
विदित रहे की 23 मार्च शनिवार को कक्षा बारहवीं उच्च गणित के प्रश्न पत्र को प्रातः 8:25 बजे सोशल मीडिया पर रूपेश कुमार जैन मोबाइल नंबर 9981739 394 द्वारा अपने अशासकीय विद्यालय संगठन में वायरल किया गया था। श्री जैन अशासकीय स्कूल कैंब्रिज उच्चतर माध्यमिक विद्यालय खाचरोद के संचालक भी हैं। जिसकी शिकायत इस ग्रुप के ग्रुप एडमिन तथा अशासकीय विद्यालय संगठन के जिला सचिव राजेशसिंह भदोरिया ने जिला शिक्षा अधिकारी के समक्ष की थी। जिला शिक्षा अधिकारी एसपी त्रिपाठी ने तीन सदस्यीय जांच दल गठित किया था ।जिसमें विकास खंड शिक्षा अधिकारी बीपी पठारिया को अध्यक्ष एवं नारायणसिंह ठाकुर प्राचार्य उत्कृष्ट विद्यालय एवं निलेश सक्सेना शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय खेरी इच्छावर को सदस्य बनाया था। उक्त दल से प्राथमिक जांच भी कराई गई थी। जिसमें पाया गया कि जो पेपर व्हाट्सएप ग्रुप पर डाला गया है, वह माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड द्वारा जारी किए गए मूल प्रश्न पत्र वाला ही है।परीक्षा प्रारंभ होने के 35 मिनट पहले यह पेपर सोशल मीडिया पर आना निश्चित शिक्षा विभाग की मिलीभगत का ही परिणाम है ।


क्या है माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड के निर्देश
माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड के निर्देशानुसार परीक्षा प्रारंभ होने के 20 मिनट पूर्व लिफाफा प्रश्न पत्र का खोला जाना चाहिए और कक्षाओं में 5 मिनट पहले लिफाफा खोला जाता है। लेकिन परीक्षा प्रारंभ होने के 35 मिनट पहले अर्थात 8:25 पर व्हाट्सएप ग्रुप पर 23 मार्च को उच्च गणित का प्रश्न पत्र आना निश्चित घोर लापरवाही एवं मिलीभगत का स्पष्ट परिणाम है ।मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल के परीक्षा अधिनियम का उल्लंघन भी है।
।यह पेपर परीक्षा प्रारंभ होने के 35 मिनट पहले वायरल होने पर दबी जुबान से शिक्षा विभाग के अधिकारीगण यह भी स्वीकार कर रहे हैं कि पेपर लीक होने की सूचना करीब 1 सप्ताह से चल रही थी।
विकास खंड शिक्षा अधिकारी भगवती प्रसाद पठारिया अपने अधीनस्थ प्रभात श्रीवास्तव आदि के साथ सिद्धिकगंज थाना पर 3 अप्रैल को पहुंचे और उन्होंने रूपेश कुमार जैन के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया है ‌‌‌‌‌‌।


एक केंद्र अध्यक्ष का नाम भी आ रहा है
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में रूपेश कुमार जैन ने अपने स्कूल के समीप के ग्राम खामखेड़ा जत्रा के केंद्र अध्यक्ष का नाम भी उल्लेखित किया है। जो सीहोर के शासकीय स्कूल के शिक्षक हैं। श्री जैन का कहना है कि मैं तो अपने बच्चों को छोड़ने के लिए परीक्षा केंद्र तक गया था और मेरे मोबाइल का उपयोग बाबूलाल मालवीय केंद्र अध्यक्ष खामखेड़ा जात्रा द्वारा किया गया है। अब क्या पुलिस कार्रवाई करती है? यह भविष्य के गर्त में है ।इस संबंध में सिद्धिकगंज थाना प्रभारी नगर निरीक्षक माधूसिंह कनेश से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि विकास खंड शिक्षा अधिकारी के द्वारा इस मामले में रिपोर्ट दर्ज कराई जा रही है ,अभी कार्रवाई चल रही है ।विस्तृत जानकारी हमारे वरिष्ठ अधिकारी ही दे सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!