Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा: शांति समिति की बैठक सम्पन्न,बिजली विभाग के अधिकारी रहे नदारत,विधायक सहित अन्य जनप्रतिनिधि व नेतागण ने आक्रोश व्यक्त किया।

0 14

शांति समिति की बैठक में जिम्मेदार अधिकारी समय पर नहीं पहुंचे, विधायक सहित अन्य जनप्रतिनिधि व नेतागण ने आक्रोश व्यक्त किया

आष्टा। जनपद पंचायत के सभाकक्ष में आगामी त्योहारों को ध्यान में रखते हुए शांति समिति की बैठक आयोजित की गई। शांति समिति की बैठक आगामी त्योहारों को देखते हुए नवागत अनुविभागीय अधिकारी ब्रजेश सक्सेना की अध्यक्षता में संपन्न हुई।उक्त बैठक में जिम्मेदार अधिकारी करीब 1 घंटे तक निर्धारित समय पर नहीं पहुंचे। विधायक सहित जनप्रतिनिधि एवं नेतागण ने आक्रोश व्यक्त किया।
आगामी माह सितम्बर में एक के बाद एक अनेक त्योहार आ रहे हैं ।जिसमें गणेशोत्सव ,मोहर्रम , दिगंबर जैन समाज के दसलक्षण पर्यूषण महापर्व ,अनंत चतुर्दशी जुलूस, नवरात्रि आदि त्यौहार मनाए जाने हेतु एक बैठक स्थानीय जनपद कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित की गई ।जिसमें नगर के दोनों थाना क्षेत्र के अधिकारी ,अनुविभागीय अधिकारी विरेंद्र कुमार मिश्र ,अनुविभागीय अधिकारी राजस्व ब्रजेश सक्सेना, विधायक रघुनाथ सिंह मालवीय,नेतागण सहित पत्रकार एवं गणमान्य नागरिकों ने अपने-अपने सुझाव व्यक्त किए ।क्योंकि दोनों त्यौहार हिंदू एवं मुस्लिम दो समुदायों के बीच आपसी सौहार्द बना रहे एवं अपने -अपने त्यौहार धूमधाम एवं उत्साह के साथ मना सकें ।इसलिए किसी भी प्रकार की कोई अव्यवस्था न हो ।मीटिंग में सभी लोगों सौहार्द के साथ सभी त्योहार मनाने की सहमति जताई।
आज की मीटिंग की विशेष बात है कि मीटिंग का समय4 व 4:30 निर्धारित किया गया था, लेकिन अधिकारी 4 बज कर 50 मिनट के बाद आए। मीटिंग में बैठक व्यवस्था भी अस्त-व्यस्त दिखी ।मंच पर वरिष्ठों के आने-जाने का सिलसिला जारी था ।यहां तक नौबत आ गई कि नगर पालिका सीएमओ नीरज श्रीवास्तव एवं नगर निरीक्षक अरुणा सिंह दोनों को ही मंच के समीप नीचे बैठना पड़ा। साथ ही साउंड व्यवस्था भी पूरी तरह ध्वस्त दिखी। आयोजन कर्ताओं ने पूर्व में आयोजित स्थल की जानकारी भी स्थानीय जनपद कार्यालय को नहीं दी थी। पत्रकारों एवं अन्य लोगों के पहुंचने के बाद सभा स्थल गेट खोला गया ।वहीं दूसरी ओर बैठक में संचालन का बहुत बड़ा अभाव दिखा ।किसी तरह शांति समिति की बैठक रस्म अदायगी बन कर रह गई।
बैठक की सूचना गुरुवार को शाम4 व 4.30 बजे की दी गयी, जिसे लेकर पत्रकारगण, जनप्रतिनिधिगण एवं वरिष्ठगण अपने समय से पहुंच गए ।लेकिन शांति समिति की बैठक बुलाने वाले अधिकारी स्वयं समय से नही पहुंचे। अधिकारी बैठक के समय 4.30 बजे से 20 मिनट देरी से पहुंचे।बैठक में शहर काजी जनाब फजले बारी आरिफ ने कहा कि आगामी माह में मुस्लिम समाज के मोहर्रम के पर्व, वही गणेश उत्सव एवं दिगंबर जैन समाज के पर्यूषण पर्व आ रहे हैं। जैसा पूर्व वर्षों में भाई चारे के साथ पर्व मनाते हैं और इस वर्ष भी भाई चारे के साथ पर्व मनाए जाएंगे ।विधायक रघुनाथ सिंह मालवीय, एसडीएम श्री सक्सेना एवं एसडीओपी श्री मिश्र ने पर्वो को आपसी सद्भावना और भाईचारे के साथ मनाने का आग्रह किया। बैठक में बताया गया कि गणेश जी की एवं दुर्गा जी की प्रतिमा तथा ताजिए निर्धारित कुंड में ही विसर्जन होगा और साफ सफाई रहेगी। बैठक में बताया गया कि आगामी माह की तारीख
1 सितंबर 6,7,8,9,
10,11 को प्रमुख जुलूस निकाले जाएंगे
। बिजली की समस्या, सड़क पर गड्ढे ठीक किये जायें, स्ट्रीट लाइट बन्द है, उसे सही किया जाए।
रोड़ पर पन्नियां लगी है, वो हटाई जाए।
कुंड गड्ढे के रूप में बना है, आज तक पक्का निर्माण नही किया गया है 2015 से अब तक। कुंड का निर्माण किया जाए।
बिजली के तार नीचे है, रात में रोड़ पर गाड़िया खड़ी रहती है, उनको व्यवस्थीत कराई जाए,
साफ सफाई 18 वार्डो में कराई जाए, क्योकि सभी जगह गणेश जी बैठते है और मोहर्रम पर्व पर ताजिए भी बनते है। सड़कों पर अंधेरा रहता है, लाइट की व्यवस्था की जाए, स्ट्रीट लाइट बन्द रहती । रात भर जो मंडल में सदस्य काम करते है उन्हें जबरन परेशान नही किया जावे। बैठक में प्रशासन ने विभिन्न गणेश मंडलों के पदाधिकारियों से कहा कि वे अपने गणेश स्थापना स्थल को रात में खाली नही छोड़े, मंडलो में कार्यकर्ता लगाए, बैठक में नगर सहित क्षेत्र में हो रही चोरी पर नाराजगी भी व्यक्त की गई। शांति समिति की बैठक त्योहारों के कम से कम 8 15 दिन पहले बुलाई जाना चाहिए ,लेकिन त्यौहार सामने और बैठक बुलाई है नगर में गणेश उत्सव के स्टेज भी बनना तैयार हो चुके हैं। बैठक में कांग्रेस नेता गण एवं भाजपा के नेता व विभिन्न मंडलों के पदाधिकारी गण आदि उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!