Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा : मॉडल एक्ट के विरोध में आज संयुक्त मोर्चे के आव्हान पर स्थानीय मंडी प्रशासन के सभी कर्मचारी 1 दिन के अवकाश पर रहे

0 20

– आज फिर मंडी हुई बन्द ।
आष्टा
किसान हुवे परेशान
मॉडल एक्ट के विरोध में आज संयुक्त मोर्चे के आव्हान पर स्थानीय मंडी प्रशासन के सभी कर्मचारी 1 दिन के अवकाश पर रहे । और इसके चलते मंडी का समस्त कामकाज लगभग बन्द जैसा रहा ।मंडी परिसर में आज पूरे समय सुरक्षा गार्ड अपनी मनमानी करते रहे ।इस कारण सूचना के आभाव में गावो से आया किसान अपनी ही मंडी में प्रवेश नही कर पाने से रोड पर खड़ा रहकर परेशान होता रहा ।
किसानों की मंडी में आज जब किसान सूचना के अभाव में अपनी उपज लेकर आष्टा मंडी बेचने हेतु आया ।तब पता चला कि आज मंडी कर्मचारी मध्यप्रदेश शासन द्वारा 1 मई 2020 से मंडियों के अधिनियम में संशोधन कर माडल एक्ट लागू किया है । तथा केंद्र सरकार द्वारा 5 जून 2020 को प्रवर्त कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य(सवर्धन ओर सरलीकरण) अध्यादेश लगाया है इसके विरोध में चरण बद्ध आंदोलन कर रहे है और इसी क्रम में आज मध्य प्रदेश की 259 मंडियों के कर्मचारी 1 दिन के अवकाश पर है ।
ओर मंडी परिसर पूरी तरह से सुरक्षा गार्डों के हवाले कर दिया है ।नतीजन आज जो किसान सूचना के आभाव में अपनी उपज लेकर आ गए है ,,वह मंडी के दोनों द्वार बंद होने से मुख्य मार्ग पर अपने ट्रेक्टर ट्रालियों को खड़ी कर परेशान हो रहे है । सुरक्षा गार्ड किसानों को अंदर प्रांगण में प्रवेश नही होने दे रहे है । पूछने पर गार्डो द्वारा बताया गया है कि आज मंडी बन्द है इसलिए प्रवेश भी बन्द है ।साहब के हमको यही आदेश है ।
इस तरह की हिटलरशाही देख कर । किसानों को मंडी में अपनी उपज भरे वाहनों को खड़ा भी नही करने दिए जा रहे है इससे फिर एहसास हुआ कि मंडियों में किस तरह से नोकर शाही ,ओर लाल फीताशाही हावी है ।
यही कारण है कि केंद्र शासन ओर प्रदेश शासन किसानों और व्यापारियों के हित मे मंडी के नियमो में सरलीकरण कर रहा है ।जिससे कि व्यापारी स्वछंद ओर स्वतंत्र हो कर व्यापार कर सके ।वही किसानों को भी उनकी उपज का अधिक से अधिक लाभ मिल सके । मंडी परिसरों में जो हिटलरशाही हावी है वह भी इस नए कानून से समाप्त हो जाएगी ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!