Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा- प्रसूता की मौत के मामले ने तूल पकड़ा, भाजपा, अखंड ब्राह्मण समाज, हिंदू उत्सव समिति और कुशवाह समाज ने सौपा ज्ञापन , CMHO ओर BMO के निलंबन की मांग, पुष्प कल्याण अस्पताल को सील कर ,दोषी डॉक्टरो को गिरफ्तार करने की मांग

0 2

आष्टा- प्रसूता की मौत के मामले ने तूल पकड़ा, भाजपा, अखंड ब्राह्मण समाज, हिंदू उत्सव समिति ने सौपा ज्ञापन
CMHO ओर BMO के निलंबन की मांग, पुष्प कल्याण अस्पताल को सील कर दोषी डॉक्टरो को गिरफ्तार की मांग।

आष्टा। गुरुवार को नगर के सेमनरी रोड स्तिथ पुष्प कल्याण अस्पताल में एक प्रसूता की मौत हो जाने के बाद से आमजनों में भारी आक्रोश है। आष्टा नगर की 25 वर्ष की प्रतीक्षा शर्मा जिसे उक्त अस्पताल में डिलेवरी के लिए भर्ती किया गया था उसकी सिजेरियन के दौरान मौत हो गयी थी

पुष्प कल्याण हॉस्पिटल की लापरवाही के कारण प्रस्तुति हेतु भर्ती महिला व बच्चे की मौत, निश्चेतना विशेषज्ञ के स्थान पर नर्स से लगवाया इंजेक्शन, परिवार जन को किया भ्रमित
फोटो प्रसूति हेतु पहुंची महिला की मौत के पश्चात परिजन
फोटो प्रसूता की मौत के पश्चात बीएमओ एवं पुलिस वहां उपस्थित डॉक्टर से जानकारी लेते हुएआष्टा। नगर की एक बेटी जिसका विवाह करीब डेढ़ वर्ष पहले इंदौर निवासी युवक से हुआ था, वह प्रसूति कराने के लिए अपने मायके

आष्टा आई हुई थी। उक्त विवाहिता को जब स्थानीय प्राइवेट पुष्प कल्याण हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया तो करीब 6 घंटे पश्चात निश्चेतना विशेषज्ञ के स्थान पर नर्स से बेहोशी का इंजेक्शन लगवाया गया और इंजेक्शन लगते ही उक्त प्रसूता की मौत हो गई। यह जानकारी अस्पताल प्रबंधन ने परिवार जन से छुपाई तथा वेंटिलेटर पर रखकर कहा कि अभी मामला गंभीर है। जैसे ही पता चला की मौत हो चुकी है तो अस्पताल में हंगामा होने लगा। सूचना पुलिस और प्रशासन तक पहुंची अधिकारीगण मौके पर पहुंचे ।वहीं एसडीएम विजय मंडलोई के निर्देश पर बीएमओ डॉ प्रवीर गुप्ता भी उक्त अस्पताल में पहुंचे ।पुलिस ने पंचनामा बनाकर मृतिका के पति की रिपोर्ट पर प्रकरण दर्ज किया।


नगर भाजपा अध्यक्ष अतुल शर्मा ने बताया कि सुभाष नगर निवासी जागेश्वर तिवारी की पुत्री प्रतीक्षा का विवाह इंदौर निवासी गिरीश शर्मा के साथ करीब डेढ़ साल पहले हुआ था ।डिलेवरी हेतु 10 दिसंबर को सुबह 10 बजे के करीब सेमनरी रोड स्थित पुष्प कल्याण हॉस्पिटल पर भर्ती कराया गया था। शाम 4:30 बजे ऑपरेशन थिएटर में प्रतीक्षा को ले जाया गया और वहां बेहोशी के लिए सिस्टर कोरियन से इंजेक्शन लगवाया गया ।जबकि बेहोशी का इंजेक्शन निश्चेतना विशेषज्ञ द्वारा ही लगाया जाता है ।उक्त अस्पताल प्रबंधन ने बाहर से उक्त विशेषज्ञ बुलाने के स्थान पर अनुभव हीन नर्स से इंजेक्शन लगवा दिया। जिसके कारण प्रतीक्षा शर्मा की मौत हो गई ।उनके परिजन एवं स्नेही जन ने अस्पताल में नाराजगी भी व्यक्त की। सूचना मिलने पर एसडीएम श्री मंडलोई ने तहसीलदार रघुवीर सिंह मरावी, बीएमओ डॉ प्रवीर गुप्ता एवं पुलिस बल को भेजा। मृतिका प्रतीक्षा के पति गिरीश शर्मा ने पुलिस ,प्रशासन व पत्रकारों को अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही से अवगत कराया तथा बताया कि यहां पर इंजेक्शन लगाते ही प्रतीक्षा की मौत हुई है। पुलिस ने श्री शर्मा की सूचना पर सीसी कैमरे की हार्ड डिस्क जब्त की। श्री शर्मा ने यह भी बताया कि बीएमओ सहित पुलिस को वहां उपस्थित महिला डॉक्टर ने प्रस्तुति हेतु पहुंची महिला को क्या उपचार किया ,उसकी जानकारी देना भी उचित नहीं समझी।स्थानीय निजी पुष्प कल्याण अस्पताल में कल हुई जच्चा-बच्चा की मौत के बाद भाजपा कार्यकर्ता एक्शन में दिखाई दिए आज परिवारजनों के साथ जाकर मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया ज्ञापन में परिजन और भाजपा कार्यकर्ता द्वारा कहा गया कि बहन प्रतिक्षा शर्मा पत्नि श्री गिरीश शर्मा पुत्री श्री जागेश्वर तिवारी निवासी आष्टा की सिजेरियन डिलेवरी के दौरान जच्चा एवं बच्चा दोनों की मौत हो गई है, जिसमें कि पुष्प कल्याण अस्पताल की गंभीर लापरवाही स्पष्ट प्रतीत हो रही है, जैसे कि- सिजेरियन करने हेतु उक्त अस्पताल अधिकृत नही था, वहां पर सिजेरियन करने हेतु सर्जन, गायनोकोलॉजिस्ट, पेड्रियाट्रिक्स एवं ऐनेसथिसिया डॉक्टर उपलब्ध नही था, उसके बावजूद भी अन्ट्रेण्ड डॉक्टर एवं नर्सो तथा अप्रशिक्षित ऑपरेशन थेटर स्टॉफ द्वारा सिजेरियन चालू कर दिया गया और अप्रशिक्षित सिस्टर लॉरेन द्वारा ऐनेसथिसिया का ओवरडोस दे दिया गया और डॉक्टर शीबा अंसारी जो कि बी.यू.एम.एस. डॉक्टर है, जो कि सर्जरी करने के लिये अधिकृत नही है, फिर भी सर्जरी के लिये मरीज को ओ.टी. में ले गई।मरीज बहन प्रतिक्षा शर्मा की अप्रशिक्षित स्टॉफ द्वारा ऐनेसथिसिया देने से तत्काल गर्भस्थ प्रतिक्षा शर्मा और गर्भ में स्थित उसके शिशु की मोत हो गई। जिसके दोषी समस्त प्रबंधन पुष्प कल्याण अस्पताल तथा डॉक्टर शीबा अंसारी, नर्स लॉरेन तथा डॉक्टर हरेमन के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर दोषियों को तत्काल गिरफ्तार किया जावें और पुष्प कल्याण अस्पताल को तत्काल सील कर उच्च प्रदेश स्तरीय कमेटी से उक्त मामले की जांच कराई जावें।
उक्त अस्पताल अवैध रूप से चलवाने के दोषी सी.एम.एच.ओ. जिला सीहोर डॉक्टर डेहरिया तथा ब्लाक मेडिकल ऑफिसर डॉ.प्रवीर गुप्ता पर निलंबन की कार्यवाही तत्काल की जावें। उक्त दोनों डॉक्टर जो कि इस प्रकार के अपराध और फर्जी हॉस्पिटलों को रोकने के लिए जिम्मेदार है। अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिये उक्त मामले पर लीपा-पोती की कार्यवाही करने में लगे है। साथ ही साथ हमें प्रतीत होता है, कि दोषी व्यक्तियों और अस्पताल को बचाने के लिये ये लोग सबूतों को भी नष्ट कर सकते है। डॉक्टर प्रवीर गुप्ता को तत्काल प्रभाव से उक्त जांच से अलग किया जावें।
माननीय मुख्यमंत्री जी आप एक चिकित्सा व्यवस्था आष्टा एवं सीहोर जिले में देना चाहते है, जबकि उक्त दोनों मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर डेहरिया तथा ब्लाक चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर प्रवीर गुप्ता भारी भ्रष्टाचार कर उक्त फर्जी अस्पतालों और फर्जी डॉक्टरों को प्रायवेट चिकित्सा व्यवस्था के नाम पर संरक्षण दे रहे है।
माननीय मुख्यमंत्री जी से निवेदन है, कि उक्त दोनों डॉक्टर और पुष्प कल्याण अस्पताल आपकी छवि को धुमिल करने का काम कर रहे है और लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे है और पूर्व में भी इस प्रकार की जो कृत्य हुऐ हों, उनकी भी जांच की जावें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!