Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा: जनपद पंचायत के सीईओ के खिलाफ अध्यक्ष और उपाध्यक्ष ने क्वरांटाइन का उल्लंघन करने पर कार्रवाई की मांग कर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन ,बीएमओ जांच करने पहुंचे तो सीईओ नहीं थे ,भोपाल वापस पहुंचे

0 89
जनपद पंचायत के सीईओ के खिलाफ अध्यक्ष और उपाध्यक्ष ने क्वरांटाइन का उल्लंघन करने पर कार्रवाई की मांग कर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन ,बीएमओ जांच करने पहुंचे तो सीईओ नहीं थे ,भोपाल वापस पहुंचे
आष्टा ।जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिन्हें क्वरांटाइन किया गया था वह क्वरांटाइन के पश्चात भी भोपाल चले गए थे,बीएमओ भी जांच करने के लिए आज पहुंचे तो वह नहीं थे ।इस संबंध में उन्होंने अधिकारियों को अवगत कराया है, दूसरी तरफ जनपद पंचायत के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष आदि ने उक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी के विरुद्ध कार्रवाई की मांग करते हुए एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है।
स्थानीय जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के पद पर 30 अप्रैल को पदस्थ हुए डीएन पटेल जो कि भोपाल रेड झोन से आए थे और उन्होंने पदभार ग्रहण करने के पश्चात अपने कार्यालय में बैठकर कार्य करते रहें, सूचना मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उन्हें क्वरांटाइन कर 13 मई तक अपने घर में रहने की बात कही थी तथा उनके घर पर पर्चा भी चस्पा किया गया था। इसके पश्चात भी श्री पटेल भोपाल 30 अप्रैल की शाम को ही चले गए थे ।क्वरांटाइन का उल्लंघन करने के विरुद्ध जनपद पंचायत के अध्यक्ष बलबहादुर सिंह भगत जी, उपाध्यक्ष सोभालसिंह आदि ने तहसील कार्यालय पहुंच कर कलेक्टर के नाम संबोधित ज्ञापन एसडीएम अंजू अरुण कुमार विश्वकर्मा को सौंप कर कार्रवाई की मांग की। वही बीएमओ डॉ गुप्ता अपनी टीम को लेकर 1 मई की सुबह जब जनपद पंचायत परिसर में सीईओ के निवास पहुंचे तो, वह नहीं थे। फोन लगाया तो बताया कि भोपाल हूं। बीएमओ डॉ गुप्ता ने इस संबंध में एसडीएम सहित जिला मुख्यालय पर उनके नहीं देने की सूचना दी।
     प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत के अध्यक्ष बलबहादुर सिंह भगत जी, उपाध्यक्ष सोभाल सिंह मुगली ,कृपालसिंह आदि ने तहसील कार्यालय पहुंचकर एसडीएम अंजू अरुण कुमार को एक ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से अवगत कराया कि मुख्य कार्यपालन अधिकारी डीएन पटेल को 30 अप्रैल को क्वरांटाइन 13 मई तक कर अपने निवास पर ही रहने को कहा गया था ।लेकिन 30 अप्रैल की शाम को पदभार ग्रहण करने के पश्चात वह भोपाल चले गए और एक फाइल लेकर जाना बता रहे हैं ।भोपाल कोरोनावायरस रेड झोन में आता है और श्री पटेल का वहां वापस जाना निश्चित कोरोनावायरस को जिले में फैलाना है । यहां पर अभी तक एक भी कोरोनावायरस का रोगी नहीं है। पूरा देश इस रोग से भयभीत व परेशान हैं। उक्त स्थिति के पश्चात भी श्री पटेल बिना अनुमति लेकर रेड झोन क्षेत्र में वापस गए हैं ।उन पर नियमानुसार कार्रवाई की जाना चाहिए । श्री पटेल जनपद का वाहन ड्राइवर को लेकर गए हैं जो कि कानून व नियम के विपरीत है ।जनपद अध्यक्ष बलवहादुर सिंह ने बताया कि इस संबंध में मनोज श्रीवास्तव मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास, आयुक्त भोपाल संभाग भोपाल एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को भी लिखित में शिकायत की गई है। दूसरी तरफ बीएमओ डॉ  गुप्ता जब जनपद पंचायत परिसर में सीईओ श्री पटेल की जांच के लिए पहुंचे तो वह नहीं थे ।मोबाइल लगाने पर बताया कि भोपाल में हूं और आप किसी के कहने पर हमारी जांच करने के लिए आए हैं, तो डॉक्टर गुप्ता ने उन्हें बताया कि हम शासन के निर्देशानुसार जो भी रेड झोन से आता है उसकी जांच करते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!