Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा :ग्राम खड़ी मे 2 व्यक्तियों के साथ धोखाधड़ी ,फर्जी दस्तावेजों के आधार पर खाताधारकों के खातों से निकली राशि ,बैंक प्रबंधन मौन !

0 5

बैंक ऑफ महाराष्ट्र की खड़ी शाखा के दो खाताधारकों ने पार्वती थाना को आवेदन देकर अपने साथ हुई धोखाधड़ी की वारदात को लेकर कार्रवाई की मांग की हैं। इस संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार 31 अक्टूबर को ग्राम डूका के राहित मेवाड़ा के खाते से 23 सौ रूपये निकाले गए हैं। इस संबंध में पुलिस को जो आवेदन रोहित के पिता देवीसिंह मेवाडा द्वारा दिया गया हैं, के संबंध में पुलिस ने बताया कि फर्जी आधार कार्ड के आधार पर डुप्लीकेट पासबुक बनाई गई और उसके आधार पर रोहित की पासबुक से 23 सौ रूपये निकाले गए हैं। घटना की जानकारी बैंक अधिकारी को हैं, लेकिन बैंक अधिकारी इस मामले में चुप्पी साधे बैंठे हैं। इसी प्रकार एक और घटना हकीमपुर खोयरा निवासी अजय पुत्र महेश मालवीय के साथ घटित हुई हैं। अजय द्वारा जो आवेदन दिया हैं, उसके अनुसार उसका बैंक ऑफ महाराष्ट्र की खड़ी शाखा में खाता हैं, उक्त खाते पर एसएमएस सुविधा उपलब्ध हैं। जैसे ही खाते में लेनदेन होता हैं मेसेज अजय के मोबाईल पर आता हैं। विगत 8 नवंबर को किसी अज्ञात व्यक्ति ने बैंक में अजय के नाम आवेदन देकर पासबुक बनवाई और विड्राल फार्म भरकर खाते में से 5800 रूपये निकाल लिए। इसकी जानकारी 11 नवंबर को उस वक्त हुई जब अजय अपने खाते में पैसे जमा करने गया। अजय ने इसकी शिकायत बैंक अधिकारी से की, अजय ने अपनी शिकायत में उल्लेख किया हैं कि उसके पास इस लेनदेन का कोई मेसेज नही आया।
    अज्ञात व्यक्ति द्वारा बनाई गई पासबुक के लिए जो आवेदन दिया हैं,  उसके साथ आधार कार्ड भी पेश किया हैं, जिसमें अजय का फोटो नही हैं। जब अजय ने बैंक अधिकारी से इस संबंध में शिकायत की और कहा कि सीसीटीवी केमरे में मुझे बताए तो अधिकारी नाराज हो गए और भी आरोप आवेदन पत्र में चस्पा किए गए हैं। पुलिस ने अजय द्वारा आवेदन देने की पुष्टि की हैं। इन दोनो घटनाक्रमों से बैंक की कार्यप्रणाली पर प्रश्र चिंह लग गया हैं। आश्चर्य की बात यह हैं कि जो उपभोक्ता लुटे हैं, वही थाने में जाकर आवेदन दे रहे हैं और बैंक ऑफ महाराष्ट्र शाखा खड़ी की और से इन दोनो घटनाओं में जो की क्रमश 31 अक्टूबर और 8 नवंबर की बताई जाती हैं को लेकर कोई रिर्पोट पुलिस को नही की गई। आखिर बैंक लूट की इस वारदात को छिपाना क्यों चाहता हैं?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!