Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा : कोचिंग सेंटरों और डे बोर्डिंग का माया जाल,देर रात तक हो रहे संचालित,( पार्ट 1 )

0 6

कृपया नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में आपके कमेंट सादर आमंत्रित है ।

आष्टा में कोचिंग सेंटरों और प्राइवेट स्कूलों में संचालकों द्वारा चलाए जा रहे हैं डे बोर्डिंग और कोचिंग सेंटरों के मायाजाल में मानो बचपन उलझता जा रहा है ,कोचिंग सेंटरों के मायाजाल की गिरफ्त में छात्रों की शिक्षा मानो इनकी शरण मे है। क्योकि स्कूलों में शिक्षा का स्तर दिन प्रतिदिन नीचे गिरता जा रहा है अनुभवहीन शिक्षक या शैक्षणिक दृष्टि से गैर डिग्रीधारी शिक्षक बच्चो के भविष्य के साथ खिलवाड़ करते हुए नज़र आ रहे है जिस स्कूल से 12 वी उत्तीर्ण की वही नोकरी करते हुए नज़र आते है।ऐसे में कोचिंग संचालको के वा रे न्यारे हो जाते है , अनगिनत बच्चो को कोचिंग संचालक दाखिला देकर मोटी रकम वसूलते है और सुविधा की जगह असुविधाएं परोसते है। सेंटरों में ना तो बैठने की उचित व्यवस्था है ना सुरक्षा की कोई व्यवस्था।कॉऐड कोचिंग तो जैसे आष्टा नगर में प्रथा बन चुकी है।

ज्ञात रहे कि कुछ समय पहले प्रशासन द्वारा कोचिंग सेंटरों के रजिस्ट्रेशन और संचालन के लिए मापदंड भी तैयार किये गए थे लेकिन कुछ समय बाद लचर व्यवस्ता के चलते सब माया के भोग चढ़ गए।

यह है नियम

1- कोचिंग संचालको के पास प्रसासन से सेंटर संचालित करने के लिए अनुमति पत्र या रजिस्ट्रेशन होना अनिवार्य है।


2- सभी कोचिंग सेंटरों पर सी सी टी वी कैमरे लगे हो।

3- कोचिंग सेंटरों का समय 6 बजे के पूर्व हो 6 बजे के बाद कोई कोचिंग का संचालन नही करेगा।

4- छात्र और छात्राओ की पृथक पृथक बैच का संचालन हो।

5- कोचिंग सेंटरों पर अनावश्यक भीड़ ना हो।

6- कोचिंग छूटते वक्त छात्र छात्रायें सेंटर के बाहर अनावश्यक भीड़ ना लगाए।

नोट : अगले पार्ट में कोचिंग दर कोचिंग होगी पड़ताल ,कहा कहा चल रहे डे बोर्डिंग ओर कोचिंग सेंटर।और क्या कहते है अधिकारी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!