Take a fresh look at your lifestyle.

आष्टा:पुष्प विद्यालय में हुआ कराते प्रतियोगिता का आयोजन।

0 65

खेलों से शारीरिक कार्यक्षमता बनती है सुदृढ़ – नपाध्यक्ष कैलाश परमार
पुष्प स्कूल में संपन्न हुई कराते प्रतियोगिता
आष्टा। महात्मा गांधी जी ने शिक्षा के साथ स्वास्थ्य पर भी विशेष ध्यान दिया था, व्यक्ति यदि खेलों के क्षेत्र में गतिशील रहता है तो उसके शारीरिक कार्यक्षमता सुदृढ़ बनी रहती है, आत्मरक्षा की दृष्टि से जूड़ो-कराते एक अद्भुत खेल है जो व्यक्ति की आत्मरक्षा करता है। आज आवश्यकता इस बात की है कि आने वाली पीढ़ी को पारंपरिक खेलों से जोड़कर रखा जा सकें।
इस आशय के विचार नपाध्यक्ष कैलाश परमार ने स्थानीय पुष्प स्कूल परिसर में आयोजित एकदिवसीय जिला स्तरीय जूड़ों-कराते प्रयितोगिता के शुभारंभ अवसर पर व्यक्त किए। नपाध्यक्ष श्री परमार ने आगे कहा कि आष्टा जैसे छोटे शहर से जूड़ों-कराते जैसे अद्भुत खेल के प्रति छात्रों में जो उत्साह है वह सराहनीय है। प्रतियोगिता के प्रारंभ में मुख्य अतिथि नपाध्यक्ष कैलाश परमार, पार्षद नरेन्द्र कुशवाह, पार्षद प्रतिनिधि अनिल धनगर, सर्वेश उपाध्याय, सुरेन्द्रसिंह परमार एडव्होकेट, गुरूचरण परमार का पुष्पमाला पहनाकर स्कूल के कराते टीचर नंदकिशोर वर्मा द्वारा किया गया। प्रतियोगिता के निर्णायक की भूमिका फादर डॉ. एस सोलोमन, वर्ल्ड पूनाकुशी सोतोकॉन कराते ऑर्गनाईजेशन एमपी के चीफ इनायत रहमान, रेफरी ब्रजेश वर्मा, सुभाष भास्कर, शारीक खान ने निभाई। कराते टीचर नंदकिशोर वर्मा द्वारा जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रतियोगिता में शाला के लगभग 250 विद्यार्थियों ने भाग लिया था, प्रतियोगिता में विजेता विद्यार्थियों को भोपाल नेशनल प्रतियोगिता में शामिल किया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!